Home / पोस्टमार्टम / आर्थिक तंगी से जूझ रहे 12 लाख मजदूरों को दो हजार रु. देने का ऐलान; लॉकडाउन से मुंबई, पुणे और नागपुर को छूट नहीं

आर्थिक तंगी से जूझ रहे 12 लाख मजदूरों को दो हजार रु. देने का ऐलान; लॉकडाउन से मुंबई, पुणे और नागपुर को छूट नहीं

मुंबई. लॉकडाउन में आर्थिक संकट से जूझ रहे मजदूरों की मदद के लिए राज्य सरकार आगे आई है। सरकार ने निर्माण क्षेत्र में काम करने वाले मजदूरों को दो हजार रुपए की आर्थिक मदद देने का ऐलान किया। यह रकम सीधे मजदूरों के बैंक खातों में जमा होगी। इसका फायदा करीब 12.5 लाख मजदूरों को होगा। करीब एक महीने से निर्माण से जुड़े काम काम बंद होने से इससे मजदूरों को रोजमर्रा की जरूरतों के लिए भी संघर्ष करना पड़ रहा है। राज्य के भवन और अन्य निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड ने पांच हजार रुपए मजदूरों को देने की उद्धव सरकार से सिफारिश की थी।

प्रदेश में शनिवार को 328 नए कोरोना संक्रमित सामने आए। इसे मिलाकर राज्य में संक्रमितों का आंकड़ा 3 हजार 648 पर पहुंच गया। वहीं, संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित मुंबई में मरीजों की संख्या 2 हजार 268  है। संक्रमण से अब तक राज्य में 212 लोगों की जान जा चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा 126 मौतें मुंबई में हुईं।

मुंबई, पुणे और नागपुर में लॉकडाउन से कोई राहत नहीं  

महाराष्ट्र सरकार सोमवार से लॉकडाउन में कुछ राहत देने जा रही है, लेकिन मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन, पुणे, पिंपडी-चिंचवड और नागपुर शहर को लॉकडाउन से कोई राहत नहीं मिलेगी। सरकार की राहत ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्र के उद्योगों और कृषि क्षेत्र के लिए है। यहां तक कि राज्य के महानगरपालिका क्षेत्र को भी रियायत नहीं दी गई है। सरकार ने कुछ शर्तो के साथ निर्माण कार्य और मानूसन से पहले की तैयारियों में राहत दी है।

यह तस्वीर मुंबई के धारावी की है। यहां मेडिकल कैंप लगाकर लोगों की जांच की जा रही है।

पुणे में लॉकडाउन की वजह से फंसे बहरीन के 125 नागरिकों को शनिवार को स्पेशल प्लेन से रवाना किया गया। 

लॉकडाउन में 20 अप्रैल से इन चीजों की मिलेगी छूट, यह रहेंगे बंद

  • सोमवार से राज्य सरकार लॉकडाउन के नियमों में कुछ राहत दे रही है। हालांकि, कुछ चीजों पर पहले की तरह सख्त पाबंदी रहेगी जैसे रेलवे, मेट्रो, पब्लिक ट्रांसपोर्ट पूरी तरह से बंद रहेगा। सोशल गेदरिंग, कार्यक्रम, उत्सव, पूजा-पाठ, मस्जिद में नजाम पढ़ने की अनुमति नहीं होगी।
  • लोगों की जरुरतों को देखते हुए सरकार ने ऑनलाइन बिजनेस को छूट दी है। यानी आप ऑनलाइन सामान मंगा सकते हैं। होम डिलीवरी चालू होगी। आटा-दाल चक्की, खाद्य तेल उत्पादन करने वाली लघु और मध्यम औद्योगिक इकाइयां, जरूरी चीजों की आपूर्ति के लिए परिवहन शुरू किया जाएगा।
  • इसके आलवा खेती से जुड़े हुए सभी तरह के व्यापार को छूट दी गई है। इसमें फसल की खरीदारी करने वाली संस्थाएं, फसलों की पैकिंग से जुड़े व्यापार, बीज और खाद की दुकानों को भी राहत दी गई है। हालांकि, सरकार ने स्पष्ट कर दिया कि प्रोटोकॉल का पूरी तरह से ध्यान रखा जाएगा।

यहां लॉकडाउन बेअसर: मुंबई के तटीय इलाके में बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी फ्लेमिंगो का आना शुरू हो गया है।

सोमवार से वसूला जाएगा टोल, ट्रांसपोर्टर्स नाराज
लॉकडाउन के दौरान बंद की गई टोल वसूली सोमवार से फिर राज्य में शुरू हो जाएगी। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के मिल्कीत सिंह कहते हैं, ‘लॉकडाउन के दौरान ट्रक ड्राइवर और खलासी खतरा मोल लेकर डिलिवरी में लगे हुए हैं। इस कठिन दौर में ट्रांसपोर्ट उद्योग को राहत पैकेज की जरूरत है, लेकिन सरकार टोल वसूली जैसा आदेश निकालकर संकट को और गहरा कर रही है।’

 यह तस्वीर मुंबई के पोदार स्वाब टेस्टिंग सेंटर की है। यहां कोरोना जांच के लिए सैंपल लेने के लिए एक स्पेशल केबिन बनाया गया है।

24 विदेशी नागरिक अहमदनगर से पकड़े गए

दिल्ली के मरकज के कार्यक्रम में हिस्सा लेकर लौटे 24 विदेशी नागरिकों को अहमदनगर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इनके साथ पांच ट्रांसलेटर भी हैं, जो अलग-अलग राज्यों से हैं। इनमें पांच विदेशी नागरिक कोरोना संक्रमित हैं, जो अस्पताल में भर्ती हैं। इससे पहले वीजा नियमों का उल्लंघन कर जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए 156 विदेशी नागरिकों के खिलाफ मुंबई सहित ठाणे, नवी मुंबई, अमरावती, नांदेड़, नागपुर, पुणे, अहमदनगर, चंद्रपुर और गढ़चिरौली में केस दर्ज किए गए थे।

Check Also

भारत में जलवायु परिवर्तन का भयंकर प्रभाव: तूफानी बाढ़ प्रेरित आपदा

भारत में जलवायु परिवर्तन का भयंकर प्रभाव: तूफानी बाढ़ प्रेरित आपदा आज जलवायु बहुत तेजी ...