Home / Slider / कोरोना के चलते 20 हजार से ज्यादा लोगों की मौत वाला फ्रांस बना चौथा देश

कोरोना के चलते 20 हजार से ज्यादा लोगों की मौत वाला फ्रांस बना चौथा देश

फ्रांस में सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण से 547 लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही फ्रांस ने घोषणा की कि देशभर में इस वायरस से 20,000 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। इसके बाद अमेरिका, इटली और स्पेन के बाद फ्रांस ऐसा चौथा देश बन गया है जहां पर 20 हजार से ज्यादा की मौत कोविड-19 के चलते हुई है।

फ्रांस के एक शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी जेरोम सालोमोन ने यह भी कहा कि देश में अब तक कोविड-19 के 20,265 मरीजों की मौत हो चुकी है।हालांकि, जेरोम ने अस्पतालों और गहन चिकित्सा सेवाओं में आने वाले मरीजों की संख्या में आई कमी पर खुशी जाहिर की।

कोरोना वायरस वैश्विक कूटनीतिक दरार चौड़ी कर रहा

फ्रांस के विदेश मंत्री ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी वैश्विक कूटनीतिक दरार चौड़ी कर रहा, अमेरिका-चीन संबंधों में तनाव बढ़ा रहा और बहुपक्षीय व्यवस्था को कमजार कर रहा है। विदेश मंत्री जीन-यवेस ले ड्रायन ने ला मोंडे अखबार को दिये एक साक्षात्कार में कहा, ”मुझे ऐसा लगता है कि बरसों से अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को कमजोर कर रही दरार को हम चौड़ी होते देख रहे हैं। महामारी का सिलसिला जारी है, शक्तिशाली देशों के बीच संघर्ष विभिन्न तरीकों के संघर्ष से।

उन्होंने कहा, ”मुझे यह डर है कि विश्व (इस महामारी के बाद) पहले की दुनिया के समान ही हो जाएगा, लेकिन और अधिक खराब।महामारी से निपटने में चीन के तौर तरीकों की अमेरिका के नेतृत्व में पश्चिमी देशों में आलोचना बढ़ती जा रही है। गौरतलब है कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी में दुनिया भर में 1,64,000 से अधिक लोगों की मौत हुई है और विश्व की अर्थव्यवस्था घुटने के बल आ गई है।

चीन के वुहान शहर से दुनिया भर में फैली इस महामारी से अब सर्वाधिक प्रभावित देश अमेरिका हो गया है। हालांकि, चीन ने अपने यहां कोरोना वायरस उत्पन्न होने से जुड़ी कोई सूचना छिपाने से इनकार किया है और दावा किया है कि अमेरिकी सेना ने यह वायरस लाया होगा। पिछले हफ्ते अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को वित्तीय अनुदान आंशिक रूप से रोकने की घोषणा की। उन्होंने आरोप लगाया कि यह संस्था चीन का बचाव कर रही है। विदेश मंत्री ने कहा, ”राष्ट्रपति का कदम बहुपक्षीय व्यवस्था के लिये एक और चुनौती है।

पेरिस के उपनगरों में लॉकडाउन के दौरान पुलिस की नागरिकों से झड़प

पेरिस के दो उत्तरी उपनगरों में शनिवार-रविवार की रात पुलिस और स्थानीय नागिरकों के बीच झड़प हो गयी जहां लोगों ने अधिकारियों पर लॉकडाउन लागू करने के लिए दमनपूर्ण कार्रवाई करने का आरोप लगाया। चश्मदीदों और पुलिस ने सोमवार को बताया कि विलेनियुवे-ला-गारेने तथा ऑलानी-सूस-बोइस उपनगरों में स्थानीय निवासियों ने कारों में आग लगा दी और पुलिस की तरफ पटाखे फोड़े जिसके जवाब में पुलिस ने रबड़ की गोलियां चलाईं और आंसूगैस के गोले छोड़े।

शनिवार को हिंसा की शुरुआत हुई जब विलेनियुवे-ला-गारेने में पुलिस की जांच के दौरान एक मोटरसाइकिल चालक घायल हो गया। इसके बाद भीड़ जमा होने लगी। पुलिस के एक बयान के अनुसार भीड़ ने अधिकारियों पर हमला किया और यह स्थिति करीब दो घंटे तक बनी रही।

Check Also

Australian Veterans cricket team will be at Semmancheri

CUTS-South Asia:Bolstering India -Australia Defence Relations.On 21st February,2024 at 8.30am.YouTube Streaming or Scan the QR ...