Home / पोस्टमार्टम / फारूक अब्दुल्ला से मिले गुलाम नबी आजाद, जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र बहाल करने की मांग

फारूक अब्दुल्ला से मिले गुलाम नबी आजाद, जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र बहाल करने की मांग

कांग्रेस के महासचिव और राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने शनिवार (14 मार्च) को नेशनल कांफ्रेंस प्रमुख फारुक अब्दुल्ला से मुलाकात की। अब्दुल्ला को सात महीने से अधिक समय तक नजरबंद रखने के बाद शुक्रवार (13 मार्च) को रिहा किया गया था।

आजाद ने शनिवार दोपहर को यहां के गुपकर इलाके में अब्दुल्ला के घर पहुंचकर उनसे मुलाकात की। करीब दो घंटे चली मुलाकात के बाद आजाद ने जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र बहाली के साथ ही सभी राजनेताओं की रिहाई की मांग की। आजाद ने पत्रकारों से कहा, ”पहले और सबसे महत्वपूर्ण, किसी भी राजनीतिक गतिविधि को शुरू करने के लिए जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र बहाल होना चाहिए।”

उन्होंने जनसुरक्षा कानून के तहत नजरबंद पूर्व मुख्यमंत्रियों उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के अलावा सभी नेताओं और व्यक्तियों की रिहाई की मांग की। इसके साथ ही आजाद ने कहा कि जम्मू-कश्मीर को केंद्रशासित प्रदेश घोषित करना यहां की जनता का अपमान है और उसे वापस राज्य का दर्जा मिले।

आजाद ने कहा, ”लोकतंत्र तब ही बहाल हो सकता है, जब खास प्रावधान के तहत जेलों अथवा गेस्ट हाउस में बंद नेताओं को रिहा किया जाए। जम्मू-कश्मीर के सभी व्यक्तियों को जेल से आजाद होने दीजिए। राजनीतिक गतिविधि शुरू होने दीजिए, पहले लोकतंत्र बचे, फिर हम अन्य लड़ाइयां लड़ते रहेंगे।”

Check Also

लोकसभा चुनाव 2024: माहौल बदलने लगा है…? Sneh Madhur 

माहौल बदलने लगा है…? क्या योगी 2029 तक मुख्यमंत्री बने रहेंगे? Sneh Madhur  वर्ष 2024 ...