Home / संसार / सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं तो बार-बार कपड़े बदलने और नहाने की जरूरत नहीं; जूतों की जगह घर के बाहर ही होनी चाहिए

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं तो बार-बार कपड़े बदलने और नहाने की जरूरत नहीं; जूतों की जगह घर के बाहर ही होनी चाहिए

वॉशिंगटन. कोरोनावायरस का सबसे ज्यादा असर अमेरिका पर पड़ा है। यहां 34 हजार से ज्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। न्यूयॉर्क टाइम्स ने पाठकों से कोरोनावायरस से जुड़े अपने सवाल भेजने को कहा तो ज्यादातर लोगों ने पूछा कि क्या यह वायरस जूते से या फिर वे जो कपड़े पहनकर बाहर खरीददारी के लिए जा रहे हैं, उससे फैल सकता है? वर्जिनिया टेक के एयरोसोल साइंटिस्ट डॉ. लिंसे मार ने कहा, ‘वायरस कब खत्म होगा, यह मेडिकल के साथ-साथ हमारे व्यवहार पर भी निर्भर करता है। जूतों का सवाल है तो इसका स्थान घर के बाहर ही हाेना चाहिए। अगर आप सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं तो बार-बार कपड़ों को बदलने की भी जरूरत नहीं है, लेकिन अगर हमने इस वायरस को हल्के में लिया तो यह हमें खोज लेगा इसलिए हमें और ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है। धोकर सुखाए गए कपड़ों से संक्रमण का कोई खतरा नहीं होता, लेकिन कपड़ों को झटकर संक्रमण को खत्म नहीं किया जा सकता।’

न्यूयॉर्क टाइम्स के रीडर्स के सवाल, साइंटिस्ट डॉ. लिसें के जवाब

सवाल- क्या मुझे किराने की दुकान से घर आकर कपड़े बदलने चाहिए और नहाना चाहिए?
जवाब- अगर आप सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं, तो आपको बार-बार कपड़े बदलने या फिर नहाने की जरूरत नहीं है। हाथों को धोते रहना चाहिए। एक छोटी बूंद जो थोड़ी देर के लिए हवा में तैरती है, एयरोडायनामिक्स की वजह से उसके कपड़ों पर जमा होने की संभावना नहीं के बराबर होती है।

सवाल- ऐसा क्यों है कि छोटी बूंदें और वायरल कण आमतौर पर हमारे कपड़ों पर नहीं चढ़ते हैं?
जवाब- कपड़े जैसे छिद्रयुक्त सतहों पर कोरोनावायरस लंबे समय तक जिंदा नहीं रह सकता है। छिद्रयुक्त सतहों में वायरस फंस जाते हैं और उनसे दूसरी सतह को संक्रमित करने की क्षमता कम हो जाती है। आप धीमे चलते हुए जाते हैं और कोई छींकता है तो आप भी सांस छोड़ते समय इन कणों को बाहर धकेल देते हैं।

सवाल- क्या वायरस मेरे बालों या दाढ़ी में हो सकता है?

जवाब- संक्रमण का खतरा तब ज्यादा होता है, जब आपके पास छींकने वाले व्यक्ति के जरिए ठीक-ठाक मात्रा में वायरस के कण पहुंचें। फिर आप जहां हैं, वहां जमीन में बहुत सारी बूंदें होनी चाहिए। इसके बाद आप अपने बाल या कपड़े के उस हिस्से को छूते हैं, जहां बूंदें गिरी हैं और उसे अपने चेहरे के किसी हिस्से में संपर्क में लाते हैं, तो खतरा हो सकता है। फिर भी सावधानी रखें।

Check Also

Modi will take Oath as PM on June 9 at Rashtrapati Bhavan.

“मेरे जीवन का हर पल डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर द्वारा दिए गए भारत के संविधान के ...