Home / पोस्टमार्टम / हिंदी भाषा पर पूरक प्रश्न पूछने की नहीं मिली इजाजत, द्रमुक, कांग्रेस और NCP का लोकसभा से वाकआउट

हिंदी भाषा पर पूरक प्रश्न पूछने की नहीं मिली इजाजत, द्रमुक, कांग्रेस और NCP का लोकसभा से वाकआउट

नई दिल्ली:  लोकसभा में हिंदी भाषा को लेकर पूरक प्रश्न पूछने की मांग करते हुए द्रमुक के सदस्यों ने मंगलवार को हंगामा किया और अनुमति नहीं मिलने पर उन्होंने और सहयोगी कांग्रेस एवं राकांपा के सदस्यों ने सदन से वाकआउट किया।

भाजपा सदस्य अरविंद शर्मा के राजभाषा से संबंधित पूरक प्रश्न पूछे जाने के बाद द्रमुक सदस्यों ने इसी विषय पर पूरक प्रश्न पूछने की मांग की, हालांकि लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने अगला प्रश्न पूछने के लिए संबंधित सदस्य का नाम पुकारा।

हंगामे पर लोकसभा अध्यक्ष ने क्या कहा 
इसके बाद द्रमुक के सदस्य हंगामा करने लगे। इस पर अध्यक्ष बिरला ने कहा कि द्रमुक सदस्य कनिमोई को पूरक प्रश्न पूछने (एससी-एसटी अत्याचार निवारक कानून पर) का मौका दिया गया है। सदन में द्रमुक नेता टी आर बालू ने कहा कि उन्होंने हिंदी भाषा से जुड़े प्रश्न को लेकर नोटिस दे रखा है।

द्रमुक सदस्यों और केरल से कांग्रेस के कुछ सदस्यों के हंगामे बीच पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी खड़े हुए और कहा कि यह मुद्दा तमिलनाडु के दिल से जुड़ा है और पूरक प्रश्न पूछने का मौका मिलना चाहिए। इसके बाद कांग्रेस, द्रमुक और राकांपा के सदस्यों ने सदन से वाकआउट किया।

हिंदी को राष्ट्रभाषा का दर्जा देने की मांग 
इससे पहले पूरक प्रश्न पूछते हुए अरविंद शर्मा ने हिंदी को ‘राष्ट्रभाषा’ का दर्जा दिये जाने की मांग की। इसके जवाब में गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि हिंदी को किसी राज्य पर थोपा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से हिंदी को बढ़ावा देने के लिए पूरा प्रयास किया जा रहा है।

यह खबर hindi.asianetnews.com  से लिया गया है 

Check Also

लखनऊ में साल की सबसे ज्यादा बारिश: उत्तर प्रदेश में भारी बारिश का रेड एलर्ट*

लखनऊ में साल की सबसे ज्यादा बारिश: उत्तर प्रदेश में भारी बारिश का रेड एलर्ट* ...