Home / पोस्टमार्टम / 5 अप्रैल वाले कार्यक्रम पर BJP का पूरा जोर, विपक्ष के आरोपों को नजरअंदाज करने की बनाई रणनीति

5 अप्रैल वाले कार्यक्रम पर BJP का पूरा जोर, विपक्ष के आरोपों को नजरअंदाज करने की बनाई रणनीति

कोरोना संकट से निपटने के लिए किए जा रहे प्रयासों पर विपक्ष की ओर से उठाए गए सवालों को भारतीय जनता पार्टी (BJP) ज्यादा तवज्जो नहीं दे रही है। पार्टी की पूरी कोशिश है कि लॉकडाउन के दौरान देश एकजुट रहे। कहीं भी किसी तरह की राजनीति न हो। सरकार और भाजपा के बड़े नेता भी केवल वहीं पर प्रतिक्रिया देंगे, जहां लोगों को गुमराह करने की कोशिश होगी। यही वजह है कि सरकार के प्रयासों को लेकर कांग्रेस के सवालों को भाजपा व सरकार में बड़े स्तर पर गंभीरता से नहीं लिया गया।

भाजपा ने अपने सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं को बिना किसी राजनीति के देश को एकजुट रखने के काम में जुटे रहने का निर्देश दिया है। पार्टी का कहना है कि कहीं से कोई गलत धारणा फैलाई जाती है तो उसका समुचित जवाब देना जरूरी है, लेकिन वह इसे राजनीति का विषय नहीं बनाना चाहती।

भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा है कि पार्टी इस समय पूरे देश को कोरोना के खिलाफ खड़ा करने के प्रयास में जुटी है। वह इसमें राजनीति, धर्म, संप्रदाय किसी भी चीज को आड़े नहीं आने देना चाहती है।

‘पहले भी एकजुट हुआ देश’
भाजपा ने कहा है कि पहले भी देश के सामने कई संकट आए हैं और सभी दलों ने एकजुट होकर उनका सामना किया है। यह तो वैश्विक व मानवता पर संकट है। लिहाजा इस समय सभी को इकट्ठा होने की जरूरत है। सरकार के प्रयास उसी दिशा में हैं। भाजपा इसका पूरा समर्थन करती है। अन्य दलों को भी ऐसा ही करना चाहिए। पांच अप्रैल के कार्यक्रम पर कुछ नेताओं के सवाल खड़े किए जाने पर भाजपा ने कहा कि कुछ लोग सिर्फ विरोध के लिए ही विरोध करते हैं। नरेंद्र मोदी पूरे देश के प्रधानमंत्री हैं और उनका आग्रह पूरे देश से है। एक तरफ जहां भारत सरकार के प्रयासों की विश्वभर में प्रशंसा हो रही है, वहीं कुछ दल और नेता इसमें भी अपनी राजनीति खोज रहे हैं।

अब पांच अप्रैल पर ध्यान
भाजपा का अब पूरा ध्यान रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर रात नौ बजे नौ मिनट तक होने वाले प्रकाश ऊर्जा कार्यक्रम के लिए जन जागरण पर है। पार्टी कार्यकर्ता कोरोना संकट से प्रभावित लोगों को जरूरी सहायता पहुंचाने के साथ इस कार्यक्रम के लिए भी जागरूकता पैदा कर रहे हैं। भाजपा ने कहा कि यह देश को एकजुट रखने और साथ खड़े होकर संघर्ष करने की क्षमता को दर्शाता है। पहले जनता कर्फ्यू, उसके बाद कोरोना संक्रमितों के इलाज और उनकी सेवा में जुटे लोगों को धन्यवाद देने के लिए किए गए पांच मिनट के थाली व ताली बजाओ कार्यक्रम में देश एकजुटता दिखा चुका है।

Check Also

लोकसभा चुनाव 2024 : अब तो बस जनता के फैसले का इंतजार!

लोकसभा चुनाव 2024 : अब तो बस जनता के फैसले का इंतजार! स्नेह मधुर आज ...