Sunday , October 24 2021
Home / Slider / पितृपक्ष पर विशेष : “आशीर्वाद पिता का…” : डॉ रविशंकर पांडेय

पितृपक्ष पर विशेष : “आशीर्वाद पिता का…” : डॉ रविशंकर पांडेय

पितृपक्ष पर विशेष
***************

आशीर्वाद पिता का
डॉ रविशंकर पांडेय

खतम हुआ
सब मेला ठेला
शाम हुई
जब हुआ अकेला
स्मृतियों से
छनकर के तब
चेहरा आता याद पिता का ।

तुम क्या गए
कि निपट अकेला
ज्यों मेले में छूट गया मैं
एक खिलौना
मिट्टी जैसा
टुकड़े टुकड़े टूट गया मैं।

एकाकीपन में
होता तब फोटो से
संवाद पिता का ।

रहे सत्य के सदा पुजारी
भागवत के
तुम भाष्यकार थे
बीतराग
जड़भरत सरीखे
सुख में दुख में निर्विकार थे।

जीवन क्या था
चलता फिरता गीता का
अनुवाद पिता का ।

अंतहीन यात्रा पर
जाने कहां गए
तुम हमें छोड़कर
बरबस यादों में आते हो
जीवन के
हर कठिन मोड़ पर।

ढाढस हमें
बंधाता है तब
आकर आशीर्वाद पिता का ।
तब स्मृतियों से
छनकर के
चेहरा आता याद पिता का।।
_________

Check Also

जनकल्याण समिति गोमतीनगर की आम सभा व कार्यकारिणी का चुनाव

*विराम-5 उपखण्ड जनकल्याण समिति गोमतीनगर की आम सभा व कार्यकारिणी का चुनाव* विराम खण्ड-5, जनकल्याण ...