Monday , May 16 2022
Home / विविध / मन की बात

मन की बात

“सरकारी कर्मचारियों का योगदान विशिष्ट क्यों और अन्य का योगदान नगण्य क्यों?”

नागरिकों में भेदभाव क्यों? ————————- राम कृपाल सिंह अभी पिछले दिनों जाने-माने पत्रकार श्री पी.के. राय का मुंबई में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। देश के तत्कालीन सबसे बड़े अखबार ‘द हिंदू ‘ के अतिरिक्त वे अनेक विदेशी समाचार एजेंसियों से भी जुड़े रहे। एक प्रतिष्ठित पत्रकार, अत्यंत ...

Read More »

“गांधी के जिस अहिंसा, सत्य और असहयोग आंदोलन को पूरे विश्व ने अपनाया, वह गांधी कभी मरेंगे नहीं”

गांधी को याद कर ….. के एम अग्रवाल आज 30 जनवरी है, महात्मा गांधी का शहादत दिवस। तिहत्तर वर्ष पूर्व आज के ही दिन गोडसे ने उनकी हत्या कर दी थी। एक खास संगठन के लोगों ने उस समय उन पर भारत विभाजन के लिए जिम्मेदार होने तथा हिन्दुओं के ...

Read More »

Merger of Amar Jawan Jyoti at India Gate, burning bright since Jan 1972

ORPHANS OF INDEPENDENCE Colonel Nisheeth Singhal On 21 Jan 2021, Govt of India announced it’s decision to install Netaji Subhash Chandra Bose’s statue at the canopy near India Gate; and to merge the Amar Jawan Jyoti at India Gate, burning bright since Jan 1972, with the Amar Jawan Jyoti aflame ...

Read More »

प्रगतिशील कहने वाले यह नहीं बता पाते कि प्रगतिशीलता की परिभाषा क्या है?

प्रगतिशीलता – सच क्या है? —+—–+— राम कृपाल सिंह देश में कुछ वर्ष पूर्व हुए सत्ता परिवर्तन के प्रभाव , उपलब्धियों या अनुपलब्धियों का आकलन तो बुद्धिजीवी लोग करें लेकिन एक अंतर तो स्पष्ट दिखाई दे रहा है कि देश की प्रगतिशील प्रजाति लगभग विलुप्त हो गई। बहुत दिन नहीं हुए ...

Read More »

निर्वाण दिवस: “डॉक्टर अंबेडकर का एक पक्ष यह भी”: प्रो कैलाश देवी सिंह

                          प्रो कैलाश देवी सिंह निर्वाण दिवस: डॉक्टर अंबेडकर एक पक्ष यह भी ——————— कभी-कभी ऐसा भी होता है कि किसी महान व्यक्ति को उसके भक्त और समर्थक उसे एक संकुचित सीमा में सीमित कर देते हैं कि ...

Read More »

“सबने सही पहचाना, यह मैं ही हूं”: रामधनी द्विवेदी

“सबने सही पहचाना, यह मैं ही हूं” रामधनी द्विवेदी मैनें कल एक फोटो फेसबुक पर डाली थी जो मेरे मोबाइल में बहुत दिनों से कैद थी। यह फोटो कभी मेरे आर्मापुर एस्‍टेट,कानपुर के क्‍वार्टर नंबर 822 आर में टंगी रहती थी, जो किसी तरह गांव पहुंची और वहां काफी दिनों तक ...

Read More »

“अजीत डोभाल ने पुलिस अधिकारियों को सतर्क रहने की सलाह क्यों दी?”

“इन आँखिन देखी” :36: विभूति नारायण राय IPS पुलिस अकादमी से प्रशिक्षण समाप्त कर निकलने वाले प्रशिक्षुओं का मन कच्चे घड़े की तरह होता है । उस पर कुछ भी उकेरा जा सकता है । ख़ास तौर से अगर सलाह अजीत डोभाल जैसी उनकी अपनी सेवा के ‘सफलतम’ अधिकारी के मुख ...

Read More »

“नकारात्मक आंदोलन से हुआ किसानों का अहित”: राकेश कुमार मिश्र

नकारात्मक आंदोलन से हुआ किसानों का अहित राकेश कुमार मिश्र अंततः प्रधानमन्त्री मोदी ने कृषि कानूनों की वापसी का ऐलान कर दिया। सहसा इस खबर पर यकीन करना कठिन था। क्योंकि नरेंद्र मोदी की इमेज कठोर निर्णयों के लेने एवं उन पर अडिग रहने की है, यदि यह निर्णय उनकी ...

Read More »

कार्तिक पूर्णिमा: “बहुत याद आ रहा है त्रिमुहानी का मेला”: रामधनी द्विवेदी

“मध्यांतर” बहुत याद आ रहा है त्रिमुहानी का मेला: रामधनी द्विवेदी आज कार्तिक पूर्णिमा है। आज मुझे अपने गांव के पास के त्रिमुहानी मेले की बहुत याद आ रही है। बचपन में इस मेले का हमें काफी शिद्दत से इंतजार होता था। तब गांवों में इतने बड़े मेले एकाध ही ...

Read More »

” और ट्रिब्यून में नहीं बन पाई बात…!”:  रामधनी द्विवेदी: कुदाल से कलम तक” : 77

“कुदाल से कलम तक”: 77 जब संगम ने बुलाया : 32  “और ट्रिब्यून में नहीं बन पाई बात…!”  वरिष्ठ पत्रकार रामधनी द्विवेदी जब अमृत प्रभात शुरू ही हुआ था तो शायद 1978 में चंडीगढ़ से हिंदी में ट्रिब्‍यून निकलने की चर्चा हुई। मुझे भी इसकी जानकारी हुई। उसका विज्ञापन किसी ...

Read More »