Wednesday , September 22 2021
Home / साहित्य

साहित्य

kergha

पितृपक्ष पर विशेष : “आशीर्वाद पिता का…” : डॉ रविशंकर पांडेय

पितृपक्ष पर विशेष *************** आशीर्वाद पिता का डॉ रविशंकर पांडेय खतम हुआ सब मेला ठेला शाम हुई जब हुआ अकेला स्मृतियों से छनकर के तब चेहरा आता याद पिता का । तुम क्या गए कि निपट अकेला ज्यों मेले में छूट गया मैं एक खिलौना मिट्टी जैसा टुकड़े टुकड़े टूट ...

Read More »

केदारनाथ सिंह स्मृति सम्मान 2021 के लिए रचनाएं/नाम आमंत्रित

केदारनाथ सिंह स्मृति सम्मान 2021 हिंदी की साहित्यिक पत्रिका ‘साखी’ ने कवि केदारनाथ सिंह की याद में वर्ष 2021 से दो युवा कवियों को हर साल ‘केदारनाथ सिंह स्मृति सम्मान’ देने का निर्णय लिया है। देश- विदेश के कवियों, लेखकों, आलोचकों और सम्पादकों से ‘केदारनाथ सिंह स्मृति सम्मान’ के लिए ...

Read More »

“क्लिनिक पर अखबार का हमला”: कुदाल से कलम तक” : 66 : रामधनी द्विवेदी

“कुदाल से कलम तक”66 जब संगम ने बुलाया : 21 “क्लिनिक पर अखबार का हमला ..?”   रामधनी द्विवेदी ….यह जानकर आश्‍चर्य होगा कि मैने अपनी मां से कभी खाना नहीं मांगा। यह अलग बात है कि वह मेरे हर भाव को जानती थी, कब मुझे खाना चाहिए, मुझे क्‍या पसंद ...

Read More »

हिन्दी दिवस पर विशेष: “प्लीज मम्मी, डोंट गो. . . . !”: स्नेह मधुर

हिन्दी दिवस: “प्लीज मम्मी, डोंट गो. . . . !” स्नेह मधुर अपने एक मित्र के साथ उनके एक ब्रिगेडियर दोस्त के घर जाने का सौभाग्य मिला। ब्रिगेडियर दोस्त की नियुक्ति कहीं बाहर है और उनकी पत्नी अपने बच्चों के साथ इसी शहर में रहती हैं। जब उनके घर हम ...

Read More »

“अम्मा की प्यारी बिंदी हूँ… मैं हिन्दी हूँ.. मैं हिन्दी हूँ !”: डा० नीलिमा मिश्रा

मैं हिन्दी हूँ, मैं हिन्दी हूँ! मैं हिंद देश की भाषा हूँ । गौरवशाली परिभाषा है।। माँ संस्कृत से जन्मा मुझको, मैं बहुजन की अभिलाषा हूँ ।। मैं भारत माँ की बिंदी हूँ , मैं हिंदी हूँ, मैं हिन्दी हूँ।। मैं जन गण मन अधिनायक हूँ, मैं संस्कृति की परिचायक ...

Read More »

“ज्योतिष, होम्योपैथी और पत्रकारिता ?” कुदाल से कलम तक” : 65 : रामधनी द्विवेदी

“कुदाल से कलम तक”65 जब संगम ने बुलाया : 20 ज्योतिष, होम्योपैथी और पत्रकारिता ..?”   रामधनी द्विवेदी ….लेकिन लगता है कि प्रकृति को इसका पहले से आभास था और उसने कुछ वै‍कल्पिक व्‍यवस्‍था कर दी थी। इलाहाबाद के प्रवास के दौरान मैने पत्रकारिता के साथ ही अपना अलग विषयों का ...

Read More »

सुप्रसिद्ध साहित्यकार डॉ. राजकुमार शर्मा पर केंद्रित “नूतन कहानिया” के अंक का विमोचन

सुप्रसिद्ध साहित्यकार डॉ. राजकुमार शर्मा पर केंद्रित नूतन कहानिया के अंक का विमोचन  “डा. शर्मा का साहित्य सेवा के क्षेत्र में अतुलनीय योगदान रहा”: कुँवर मानवेन्द्र सिंह लखनऊ। प्रयागराज से वर्ष 1976 में मे प्रकाशन प्रारंभ करने वाली नूतन कहानियां मासिक पत्रिका ने दैनिक भास्कर के लखनऊ व्यूरो प्रमुख रहे वरिष्ठ पत्रकार ...

Read More »

“राष्ट्रीय कवि संगम इकाई प्रयागराज” के तत्वावधान में राष्ट्रीय श्री राम काव्य पाठ प्रतियोगिता संपन्न

प्रयागराज। राष्ट्रीय कवि संगम इकाई प्रयागराज के तत्वावधान में राष्ट्रीय श्री राम काव्य पाठ प्रतियोगिता संपन्न हुई प्रतियोगिता में भारी संख्या में प्रतिभागियों ने प्रतिभाग किया। प्रतियोगिता में श्रीराम के जीवन पर आधारित रचना का पाठ करना था जिसमें प्रतिभागियों के विषय चयन, भाव सौंदर्य, उच्चारण, लय, स्मृति, आत्मविश्वास और ...

Read More »

लघुकथा:2: “गणेशचौथ!”: डॉ. ऋचा शर्मा

लघुकथा –2 “गणेशचौथ”  डॉ. ऋचा शर्मा गणेश चौथ का व्रत था| सासूजी सुबह से ही नहा-धोकर नयी साड़ी पहनकर तैयार हो गईं| तिल के लड्डू, तिलकूट और भी बहुत कुछ घर में बन रहा था| सासूजी खुद तो व्रत रखती ही थीं आस-पड़ोसवालों से भी पूछती रहतीं – आज ...

Read More »

“तुम भूमिहार हो क्‍या…?” कुदाल से कलम तक”:18: रामधनी द्विवेदी

“कुदाल से कलम तक” जब संगम ने बुलाया -18 कबाड़ी को बिकी किताबें रामधनी द्विवेदी मैने अपनी पुस्‍तकों को गांव की लाइब्रेरी में देने की जो बात लिखी, उसके बाद इलाहाबाद हाई कोर्ट के अधिवक्‍ता राजेश कुमार पांडेय की टिप्‍पणी आई जिसमे उन्‍होंने प्रख्‍यात भाषाविद् डा उदय नारायण तिवारी की ...

Read More »