Home / पोस्टमार्टम / ICMR का राज्यों को निर्देश- कोविड-19 रैपिड टेस्टिंग किट अगले 2 दिन तक न करें इस्तेमाल, कई राज्यों से मिली थी शिकायत

ICMR का राज्यों को निर्देश- कोविड-19 रैपिड टेस्टिंग किट अगले 2 दिन तक न करें इस्तेमाल, कई राज्यों से मिली थी शिकायत

देश में कोरोना के कहर बढ़ता ही जा रहा है। पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमितों के नए मामलो की संख्या 945 पहुंच गई है, जबकि 31 लोगों की कोरोना से जान जा चुकी है। हालांकि रहत की बात है पिछले 24 घंटों में कोरोना से संक्रमित 410 लोगों के स्वस्थ हो चुके है। बता दे, प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल (Lav Aggarwal, Joint Secy, Health Ministry) ने बताया कि 3 जिलों में पिछले 28 दिनों से कोई नया मामला सामने नहीं आया है, इसमें एक नया जिला प्रतापगढ़, राजस्थान शामिल हुआ है। देश में 61 ऐसे जिले हैं जिनमें पिछले 14 दिनों से कोई नया मामला सामने नहीं आया है।

आईसीएमआर ने कोरोना रैपिड टेस्ट किट के इस्तेमाल पर रोक लगाई :

ऐसे में कोरोना टेस्टिंग किट को लेकर मिली शिकायतों के बाद राज्यों से कोरोना रैपिड टेस्ट किट के इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई है। हालांकि राजस्थान ने आज इस किट का उपयोग करना भी बंद कर दिया था और कहा था कि इसकी एक्यूरेसी सिर्फ 5.4 फीसदी है। बता दे, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने राज्यों को निर्देश दिए है। आईसीएमआर के आर. गंगाखेड़कर ने कहा, “राज्यों को दो दिनों के लिए रैपिड टेस्टिंग किट का उपयोग नहीं करने की सलाह दी गई है। रिजल्ट में बहुत भिन्नताएं आ रहीं थीं, जिसके चलते ऑन ग्राउंड टीमों द्वारा किट परीक्षण के बाद 2 दिनों में एडवाइजरी जारी की जाएगी।”

गंगाखेडकर ने बताया कि 4,49,810 सैंपलों का अब तक टेस्ट किया जा चुका है। 20 अप्रैल को 35,852 सैंपलों का टेस्ट किया गया जिनमें से 29,776 नमूनों का टेस्ट 201 ICMR नेटवर्क लैब में और बाकी 6,076 सैंपलों का टेस्ट 86 निजी प्रयोगशालाओं में किया गया।

कोरोना से महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा हुई मौते :

आपको बता दे की, कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए लॉक डाउन की अवधी बढ़ा कर 3 मई कर दी गई। हालांकि सुस्त पड़ी अर्थव्यवस्था को पटरी में लाने के लिए 20 अप्रैल से कुछ गतिविधियों को फिर से शुरू करने की सशर्त अनमुति दी गई है। वही स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबित कोरोना वायरस का कहर अब तक देश के 33 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में फैल चुका है। कोरोना का सबसे ज्यादा प्रभाव महाराष्ट्र में पड़ा है वह अब तक 232 मौतें हुई हैं, जबकि मध्यप्रदेश में 74 लोगों की कोरोना वायरस से जान जा चुकी है। वहीं, गुजरात में संक्रमण के चलते 71 और उत्तर प्रदेश व दिल्ली में क्रमशः 18 और 47 लोगों की जान गई है। जबकि भारत में कोरोना वायरस से अब तक 590 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 18,601 हो गई है।

Check Also

भारत में जलवायु परिवर्तन का भयंकर प्रभाव: तूफानी बाढ़ प्रेरित आपदा

भारत में जलवायु परिवर्तन का भयंकर प्रभाव: तूफानी बाढ़ प्रेरित आपदा आज जलवायु बहुत तेजी ...