Home / Slider / ‘महिलाओं की योजनाओं के प्रचार-प्रसार का दायित्व महिला आयोग संभाले’

‘महिलाओं की योजनाओं के प्रचार-प्रसार का दायित्व महिला आयोग संभाले’

देश की आधी आबादी की अनदेखी संभव नहीं:योगी 

डॉ दिलीप अग्निहोत्री


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पहले कार्यकाल में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान शुरू किया था। इसके अंतर्गत उनकी सरकार ने अनेक राष्ट्रव्यापी योजनाएं शुरू की थी। मुख्यमंत्री बनने के बाद योग आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में इन सभी योजनाओं का क्रियान्वयन सुनिश्चित किया। उन्होंने इस योजनाओं के संदर्भ में महिला आयोग से सहयोग की अपेक्षा की है।

योगी ने महिला आयोग के एक समारोह में कहा कि उज्ज्वला योजना,स्वच्छ भारत मिशन व ऐसी अन्य योजनाओं के प्रचार प्रसार दायित्व महिला आयोग संभालना चाहिए। क्योंकि ऐसी सभी योजनाएं महिला कल्याण को आगे बढ़ने वाली है। इनके माध्यम से महिला सशक्तिकरण का लक्ष्य हासिल किया जा सकता है। राज्य महिला आयोग महिलाओं को शिक्षा, सुरक्षा और स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करके सशक्तीकरण की दिशा महत्वपूर्ण कार्य कर सकता है। शौचालय निर्माण का अभियान वस्तुतः महिलाओं को सम्मान दिलाने के लिए चलाया गया था। इसके तहत करोड़ो की संख्या में शौचालय का निर्माण किया जा चुका है। मुस्लिम महिलाओं को राहत व सम्मान दिलाने के लिए ही मोदी सरकार ने तीन तलाक जैसी कुप्रथा को समाप्त किया।

उत्तर प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा व सम्मान के लिए एण्टी रोमियो स्क्वाड का गठन किया गया। एक सौ इक्यासी महिला हेल्पलाइन तथा रेस्क्यू वैन सभी जनपदों में संचालित की जा रही है। महिला सशक्तिकरण के उद्देश्य से प्रदेश में मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना चलायी जा रही है। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के माध्यम से सभी वर्गाें की गरीब परिवारों की बेटियों के विवाह की व्यवस्था गयी गयी है। तीन महिला पीएसी वाहिनियों का गठन किया गया है। समाज के विकास में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी है। यह सही है कि जिस समाज में महिला का सम्मान होता है, वह समाज उतना ही उन्न्तशील होता है। महिलाओं को जागरूक करके ही उसे सशक्त बनाया जा रहा है।इसके अलावा महिलाओं के प्रति सोच में सकारात्मक बदलाव आ रहा है। महिलाएं समाज का आधा हिस्सा हैं। उनकी अनदेखी करके किसी भी समाज का विकास नहीं किया जा सकता है।

जनसंख्या के मामले में देश का सबसे बड़ा राज्य होने के नाते उत्तर प्रदेश की आधी आबादी का प्रतिनिधित्व महिलाएं करती हैं। इसलिए महिला जागरूकता के सर्वाधिक कार्यक्रम भी राज्य में होेने चाहिए। उत्तर प्रदेश का लिंगानुपात पहले के मुकाबले बेहतर हुआ है। इन्द्र धनुष योजना के माध्यम से टीकाकरण को शत प्रतिशत सफलता मिली है। जाहिर है कि मोदी और योगी सरकार के प्रयासों से महिलाओं के कल्याण हेतु अनेक योजनाओं का क्रियान्वयन हो रहा है।

Check Also

“Advocate Mr Dinesh Kumar Misra and his family shall not be arrested”: HC

Prayagraj  “Till the next date of listing, petitioners advocate Mr Dinesh Kumar Misra and his ...