Home / Slider / भारतीय अभिनय का वैश्विक राग थे ‘प्राण’

भारतीय अभिनय का वैश्विक राग थे ‘प्राण’

प्राण साहब के 100वें जन्मदिन पर विशेष

– अनुरोज

प्राण भारतीय सिनेमा के एक ऐसे अभिनेता थे जो अपने होने पर हर फ्रेम को नई ऊंचाई दे देते थे । जाने कितने ही अंदाज बिखेर गए हैं वह सिनेमा के पन्नों पर, हर चरित्र को पुराने चरित्र से ज्यादा आगे ले जाने में उनका कोई मुक़ाबला नहीं हो सकता। हिन्दी सिनेमा के सबसे बेहतरीन खलनायक का नाम सोचने पर आज भी उनका नाम सबसे पहले जुबान पर आता है। वह आज होते तो अपना 100वां जन्मदिन मना रहे होते ।
प्राण साहब का जन्म 12 फरवरी 1920 को पुरानी दिल्ली के बल्लीमारान इलाके में हुआ था। उनका पूरा नाम प्राण कृष्ण सिकंद था लेकिन वे केवल प्राण के नाम से प्रसिद्ध थे। उनके पिता केवल कृष्ण सिकंद एक सरकारी कांट्रेक्टर थे जिस कारण प्राण साहब की शिक्षा अलग अलग जगहों कपूरथला, उन्नाव, मेरठ, देहरादून और रामपुर से हुई। उनकी माता का नाम रामेश्वरी था।
बचपन से ही प्राण एक प्रोफेशनल फोटोग्राफर बनना चाहते थे जिसके लिए उन्होंने बाकायदा लाहौर से फोटोग्राफी भी सीखी थी लेकिन किस्मत उन्हें एक्टिंग की तरफ ले आई। हुआ यूँ कि वह एक दुकान पर पान खा रहे थे और तभी वहाँ लेखक वली मोहम्मद वली आ गए और उन्होंने प्राण से पूछा एक्टिंग करोगे क्या जिस पर प्राण ने कहा कि जनाब क्यों मजाक कर रहे हैं। दरअसल वली साहब के पास प्राण के लिए एक रोल था जिसके लिए बाद में प्राण ने भी हाँ कर दी थी। 1940 में आई पंजाबी फिल्म यमला जट्ट इनकी पहली फिल्म रही जिसे दलसुख पंचोली ने बनाया था। धीरे-धीरे उन्होंने लाहौर फिल्म इंडस्ट्री में अपना अच्छा खासा नाम कमा लिया था। 1942 में आई फ़िल्म खानदान उनकी पहली हिंदी फिल्म रही जिसमें उनकी नायिका नूरजहां थी।
लेकिन 1947 में विभाजन के बाद वे अपने परिवार के साथ मुंबई आ गए थे। यहाँ आकर उन्हें जल्दी से काम नहीं मिला और उन्हें अपने परिवार के भरण पोषण के लिए चिंता सताने लगी। लेकिन लेखक सद्दत हुसैन मंटो की मदद से उन्हें 1948 में बॉम्बे टॉकीज़ की फिल्म ज़िद्दी मिली। जिसके बाद उन्हें फिल्मों में नेगेटिव रोल मिलने लगे और ये राज कपूर, देव आनंद और दिलीप कुमार जैसे हीरो के साथ फिल्मों में नज़र आने लगे। उस समय हीरो तो कई हुए लेकिन खलनायक सिर्फ एक ही रहा प्राण। 1956 में आई फिल्म हलाकू में उनके द्वारा निभाया गया हलाकू डाकू का किरदार बहुत सफल रहा और इतना ही सफल उनके द्वारा राम तेरी गंगा मैली में निभाया गया राका डाकू का किरदार रहा। उनकी कुछ प्रमुख फिल्में हैं पत्थर के सनम, तुम सा नहीं देखा, बड़ी बहन, मुनीम जी, गंवार, गोपी, हमजोली, दस नंबरी, अमर अकबर एंथनी, दोस्ताना, कर्ज, अंधा क़ानून, पाप की दुनिया, मृत्युदाता आदि।

प्राण साहब ने अपने आप को खलनायकी तक ही सीमित नहीं रखा बल्कि किशोर कुमार की फिल्म हाफ टिकट में वे कॉमेडी करते भी नज़र आए। 50 और 60 के दशक में उन्होंने अधिकतर विलेन का ही रोल किया लेकिन 1967 में आई फिल्म उपकार में उनके द्वार निभाया गया मलंग चाचा के किरदार से उनकी छवि बदली। इस फिल्म में उन्होंने एक गाना भी गया और दर्शकों को रुलाया भी। इस फिल्म के बाद उन्हें विलेन के अलावा भी किरदार मिलने लगे। जंजीर फिल्म जिसने अमिताभ बच्चन को एंग्री यंग मैन के रूप में स्थापित किया था उसमें प्राण द्वारा निभाया गया पठान का किरदार आज भी लोगों को हीरो के रोल से ज्यादा याद है। उन्होंने ना केवल ब्लैक एंड व्हाइट सिनेमा में काम किया बल्कि रंगीन सिनेमा में उभरते हुए प्रोड्यूसर्स जैसे सुभाष घई के साथ विश्वनाथ, कर्ज और क्रोधी जैसी फिल्मों में जबरदस्त भूमिकाएं निभाईं। उन्होंने अपने 50 साल के फ़िल्मी कॅरियर में लगभग 400 फिल्मों में काम किया।

प्राण साहब जब भी स्क्रीन पर आते थे तो अपनी बहुआयामी और ऊर्जावान एक्टिंग से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर देते थे। उनके बारे में कहा जाता है कि राम और श्याम फिल्म के बाद लोग सही में उनसे डरने लगे थे और उनसे नफरत करने लगे थे लेकिन उपकार फिल्म में निभाए मलंग चाचा के किरदार के बाद उन्हें जनता से प्यार मिलने लगा। उनके डायलॉग बोलने के अंदाज़ को आज भी याद किया जाता है। उनके नाम का पर्याय ही खलनायकी बन चुका था। उन्होंने सिनेमा की कई पीढ़ियों के साथ काम किया। उनकी आँखें भी अभिनय करती थीं और किरदार के लिये जरूरी क्रूरता उनकी आँखों से ही झलकती थी। कई फिल्मों में उनके किरदार और उनकी एक्टिंग फिल्म के नायक पर भी भरी पड़ते थे। प्राण साहब फिल्मों में अपने किरदारों के लिए अलग अलग पोशाक औऱ विग प्रयोग करने के लिए भी
12 जुलाई 2013 में काफ़ी बीमार होने के बाद प्राण साहब हमेशा हमेशा के लिए इस दुनिया को छोड़ के चले गए थे। बात करें उनकी उपलब्धियों की तो उन्हें अपने कॅरियर में कई पुरस्कारों से नवाज़ा गया।4 बार उन्हे फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया। स्टारडस्ट उन्हें विलेन ऑफ़ द मिलेनियम के पुरस्कार से सम्मानित कर चुका है। भारत सरकार द्वारा 2001 में उन्हें पदम् भूषण से और साल 2012 में उन्हें भारतीय सिनेमा में अपने उत्कृष्ट योगदान के लिए सिनेमा के सर्वोच्च राष्ट्रीय सम्मान दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

Check Also

साहित्य अकादेमी का रामदरश मिश्र जन्मशती समारोह संपन्न

साहित्य अकादेमी द्वारा रामदरश मिश्र जन्मशती समारोह संपन्न उनकी कहानियों में मानवता के सच्चे सूत्र ...