Wednesday , September 22 2021
Home / Slider / लघुकथा:2: “गणेशचौथ!”: डॉ. ऋचा शर्मा

लघुकथा:2: “गणेशचौथ!”: डॉ. ऋचा शर्मा

लघुकथा –2

“गणेशचौथ”

 डॉ. ऋचा शर्मा

गणेश चौथ का व्रत था| सासूजी सुबह से ही नहा-धोकर नयी साड़ी पहनकर तैयार हो गईं| तिल के लड्डू, तिलकूट और भी बहुत कुछ घर में बन रहा था| सासूजी खुद तो व्रत रखती ही थीं आस-पड़ोसवालों से भी पूछती रहतीं – आज गणेश चौथ है आप भी व्रत होंगी ?

नहीं या हाँ के उत्तर के बाद एक प्रश्न दग जाता – और आपकी बहू ?

उसके लड़का नहीं है ना ? लड़के की माँ ही गणेशचौथ और अहोई का व्रत रखती है |

ना चाहते हुए भी सिया के कानों में आवाज पड़ ही जाती थी | तभी उसने सुना छोटी बेटी आस्था दादी से उलझ रही है – दादी! लड़के के लिए व्रत रखती हैं आप, लड़की के लिए कौन-सा व्रत होता है ?

ऐंलड़कियों के लिए कोई व्रत रखता है क्या ? दादी बोलीं।

पर क्यों नहीं रखता – रुआँसी होती आस्था ने पूछा |

अरे, हमें का पता| जाकर अपनी मम्मी से पूछो, बहुत पढ़ी-लिखीं है वही बताएंगी|

आस्था रोनी सूरत बनाकर सिया के सामने खड़ी थी| आस्था के गाल पर स्नेह से हल्की चपत लगाकर वह बोली – ये व्रत, पूजा सब संतान के लिए होती है|

संतान मतलब ?

हमारे बच्चे और क्या ।

आस्था के चेहरे पर भाव आँख – मिचौली खेल रहे थे | सासूजी रात में गणपति जी की पूजा करने बैठीं | उन्होंने अपने बेटे को टीका लगाया और आरती उतारी | सिया ने अपनी बेटियों को टीका लगाकर, आरती उतारी और उनकी दीर्घायु की कामना की | अदिति, आस्था खिल उठीं | तिलकूट की सौंधी महक घर भर में पसर गई थी |
______________
पता –
डॉ. ऋचा शर्मा,
122/1 अ, सुखकर्ता कॉलनी,
(रेलवे ब्रिज के पास) कायनेटिक चौक,
अहमदनगर (महा.) – 414001.
मोबाईल – 09370288414.
e-mail – [email protected]

Check Also

ई. विनय गुप्ता ने “कंक्रीट एक्सप्रेशंस – ए प्रैक्टिकल मैनिफेस्टेशन” पर एक तकनीकी प्रस्तुति दी

*आईसीआईएलसी – अल्ट्राटेक वार्षिक पुरस्कार 2021* लखनऊ। भारतीय कंक्रीट संस्थान, लखनऊ केंद्र ने अल्ट्राटेक सीमेंट ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *