Home / Slider / भारत में जलवायु परिवर्तन का भयंकर प्रभाव: तूफानी बाढ़ प्रेरित आपदा

भारत में जलवायु परिवर्तन का भयंकर प्रभाव: तूफानी बाढ़ प्रेरित आपदा

भारत में जलवायु परिवर्तन का भयंकर प्रभाव:
तूफानी बाढ़ प्रेरित आपदा

आज जलवायु बहुत तेजी से बदल रही है और दुनिया के लिए वैश्विक खतरा पैदा कर रही है। वहाँ बहुत सारे कारण इस समस्या के पीछे हैं, जिसका एक प्रमुख कारण वायुमंडल में कार्बन उत्सर्जन है। इस वैश्विक खतरे के और कई कारण हैं, उनमें से ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन (जीएचजी) भी एक कारण है। इसके अलावा वनों की कटाई, भूमि उपयोग परिवर्तन, सल्फेट एयरोसोल और ब्लैक कार्बन, ओजोन परत की कमी और बदलती जलवायु का कारण अन्य प्रमुख कारण हैं। हम जानते हैं कि कार्बन उत्सर्जन के कारण वातावरण प्रदूषित हो रहा है और बहुत सी आपदाएँ भी नियमित रूप से घटित होती रहती हैं। दिन-ब-दिन गरमी बढ़ने का माहौल बन रहा है तथा इस अप्राकृतिक और अचानक तापमान वृद्धि के कारण ही ग्लेशियर पिघल रहे हैं, और ऐसे में क्षेत्रीय स्थानों में अचानक गर्मी बढने तूफ़ान आ जाते हैं और इस परिवर्तन से अचानक बाढ़ आ जाती है।

ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव से कृषि क्षेत्र भी प्रभावित हो रहा है। इससे दुनिया भर में अनाज की उत्पादकता पर भी असर पड़ रहा है | जलवायु परिवर्तन से भूमि और साथ ही समुद्र का तापमान जैसे बढ़ता है, वैसे ही वर्षा की मात्रा और पैटर्न को बदल देता है। यह लेख में विस्तृत रूप से जलवायु परिवर्तन की वर्तमान स्थिति और इसके मानव जीवन पर पड़ने वाले भयंकर प्रभावों के कारणों को प्रस्तुत करता है और जलवायु परिवर्तन की शमन कार्रवाई के विषय में कैसे इसे नियंत्रित किया जाए पर भी चर्चा की गई है।

1.0 ग्लेशियर और बर्फ का तेजी से पिघलना

विगत तीन –चार दशकों से ग्लेशियर और बर्फ का पिघलना सामान्य परिवर्तनों से कहीं अधिक तीव्र गति से हो रहा है। यह परिवर्तन है सभी बर्फीले ध्रुवों और बर्फ से ढके क्षेत्रों में हो रहा है उदाहरणार्थ: अंटार्कटिका ध्रुव, आर्कटिक ध्रुव, ग्रीनलैंड, और दुनिया भर के अन्य हिमाच्छादित क्षेत्रों में सबसे बड़ा तीसरा वर्फ की स्थान “हिमालय” है । इसके तीजे से पिघलने के परिणामस्वरुप पहले से ही क्षेत्र काफी प्रभावित हैं और इससे भी अधिक भयंकररूप में प्रभावित होने की उम्मीद है। हालाँकि, वर्फ के तीजे से पिघलना ही नहीं हो रहा है और यह न ही केवल उन क्षेत्रों के लिए एक समस्या है जहां यह होता है, बल्कि पृथ्वी की जलवायु प्रणाली के ग्लेशियर, बर्फ और बर्फ की चट्टाने जो एक महत्वपूर्ण घटक हैं, में परिवर्तन हो रहा है | वैश्विक स्तर तापमान में बढ़ोतरी के कारण दुनिया के सभी क्षेत्रों में वर्फ में पिघलन महसूस की जा रही है और जिससे न केवल समुद्र के स्तर में वृद्धि व समुद्रीजल के तापमान में वृद्धि और उसमें वाष्पीकरण तक ही सीमित नहीं है, बल्कि कुछ नई घटनाओं के निर्माण भी तेजी से हो रहा है, जैसे लेखक के अनुसार, हरे वाष्प आकाश में स्थिर होना । इसके अलावा, जो आर्कटिक महासागर पर गर्मियों में बर्फ का आवरण नष्ट हो गया है, इससे सूर्य से ऊष्मा का अधिक अवशोषण हो रहा है। इससे आसपास का आर्कटिक तेजी से पिघल रहा है और पर्माफ्रॉस्ट से बहुत बड़ी मात्रा में वातावरण में अतिरिक्त कार्बन डाइऑक्साइड व मीथेन के निकलने का खतरा है |

इस लेख में, हम विश्व का ध्यान इस ओर आकर्षित करने का प्रयास कर रहे हैं कि मेल्टिंग आइस के रूप में बर्फ के पिघलने से लेकर क्रायोस्फीयर की दुर्दशा जैसे क्षेत्रीय स्थलों से लेकर ग्लोबल वेक-अप कॉल तक । यह भी संक्षेप में प्रस्तुत किये जाने की सम्भावना है कि यह कितनी तेजी से पिघल रहा है, और यह पृथ्वी पर जलवायु परिवर्तन को कैसे प्रभावित करेगा। समुद्र और जमीन पर बर्फ के रूप में जाने वाले हिस्से को क्रायोस्फीयर का हिस्सा मना जाता है। बर्फ और ग्लेशियर पृथ्वी के जलवायु प्रणाली के एक महत्वपूर्ण घटक हैं और विशेष रूप से ग्लोबल वार्मिंग के प्रति संवेदनशील व प्रभावित होते हैं। फीडबैक प्रक्रियाओं के माध्यम से बर्फ और ग्लेशियर की कमी ग्लोबल वार्मिंग में तेजी लाने में अधिक योगदान प्रदान करती है। बर्फ और हिमपात से दुनिया भर में संस्कृतियों को नुकसान व लोगों की आजीविका पर प्रभाव पड़ेगा ।

2.0 बर्फ और ग्लेशियर में हो रहे परिवर्तन से वैश्विक तापमान वितरण को अधिक प्रभावित

बर्फ और ग्लेशियर अधिकांश सौर विकिरण को वापस अंतरिक्ष में परावर्तित कर देते हैं, जबकि खुले समुद्र और नंगी जमीन अधिकांश सौर विकिरण को अवशोषित कर लेते हैं । गर्मी के रूप में विकिरण. जब बर्फ और ग्लेशियर गायब हो जाते हैं, तो सामान्य रूप से कवर किए गए क्षेत्र भी गर्म होंगे, जो आगे बढ़ने में योगदान देंगे । हम यह भी जानते हैं कि बड़ी मात्रा में मीथेन और कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) विश्व के पर्माफ्रॉस्ट क्षेत्रों में संग्रहीत हैं। कब जमी हुई ज़मीन का पिघलना, ये ग्रीनहाउस गैसें हैं वातावरण में छोड़ा गया, एक और आत्म-सुदृढ़ीकरण प्रभाव जो ग्लोबल वार्मिंग को बढ़ा सकता है । समुद्र का पिघलना और भूमि की बर्फ समुद्र के तापमान और लवणता को प्रभावित करती है, जो विकास के प्रमुख और महासागरीय धाराओं की गति में परिवर्तन के महत्वपूर्ण कारक हैं। इसमें कोई भी परिवर्तन, वैश्विक तापमान पैटर्न व समुद्र की वर्तमान प्रणाली में महत्वपूर्ण परिवर्तन ला सकते हैं ।

3.0 बर्फ और ग्लेशियर के पिघलने से होने वाले परिवर्तन से लोगों के घरों और आजीविका प्रभावित
दुनिया भर में समुद्र के स्तर में वृद्धि, भूमि पर बर्फ पिघलने के सबसे स्पष्ट परिणामों में से एक है। यहां तक कि बर्फ का मामूली पिघलना भी तटीय समुदायों, शहरों व राज्य आदि में रहने वाले लोगों और उनके बुनियादी ढांचे में बड़े पैमाने पर विध्वन्सक प्रभाव डालेगे। उच्च पर्वतीय ग्लेशियरों के पिघलने से कृषि के लिए पानी की उपलब्धता पर असर पड़ सकता है। घरेलू उपयोग की वस्तुओं, पनबिजली स्टेशन और उद्योग पर भी उच्च पर्वतीय ग्लेशियरों के पिघलने का भी कारण बन सकता है। मानव आबादी और उनकी गतिविधियाँ को विशेष रूप से ग्लेशियर झील से निकलने वाली बाढ़ के रूप में एक खतरनाक स्थितियाँ पैदा कर सकती हैं।

ध्रुवीय और पर्वतीय क्षेत्र में, पारिस्थितिकी तंत्र और जैव विविधता भी बर्फ और ग्लेशियर का आवरण कम होने से क्षेत्रों में महत्वपूर्ण परिवर्तन ला सकता है, जंहा पर लोग प्राकृतिक संसाधनों पर निर्भर हैं। इन क्षेत्रों को इन परिवर्तनों के अनुरूप ढलने की आवश्यकता होगी। बर्फ और ग्लेशियर गायब होने से, संसाधनों तक पहुंच आसान हो सकती है, लेकिन सुरक्षा और प्रदूषण के मुद्दों के संबंध में चुनौतियां भी अधिक पैदा हो सकती हैं। आर्कटिक महासागर में, उदाहरण के लिए, आर्कटिक समुद्री बर्फ, समुद्री परिवहन और तेल और गैस संसाधनों तक पहुंच में मुख्य बाधा है।

4.0 भारत में जलवायु प्रभाव

एशियाई क्षेत्र विशेषकर भारत तीन (3) तरफ समुद्र से और चौथी तरफ से घिरा हुआ है । हिमालय की पहाड़ियों से आजीविका को भारी नुकसान हो सकता है, इसका उल्लेख पहले ही लिखित पुस्तक में किया जा चुका है। इस लेख के लेखक (संदर्भ ग्लोबल वार्मिंग – कारण, प्रभाव और उपचार, आईएसबीएन 978-953-51-0934-1, अप्रैल 2015 में इनटेक, रिजेका, क्रोएशिया द्वारा प्रकाशित पृष्ठ 39-40, अध्याय शीर्षक: आर्कटिक सागर के निरंतर सिकुड़न पर प्रभावों का अध्ययन ।
अब हम पश्चिम बंगाल से लेकर गुजरात तक अत्यधिक वर्षा का सामना कर रहे हैं, जिससे 300-500 किलोमीटर की दूरी प्रभावित हो रही है। तटीय क्षेत्र और हिमालय की बर्फ की चादरें ढह रही हैं, जिससे बादल फटने की संज्ञा दी जा रही हैं। प्रमुख का एक रिकॉर्ड 2013-14 के बाद से चक्रवाती प्रभाव नीचे सूचीबद्ध हैं:
4.1)केदारनाथ त्रासदी
यह 16-17 जून 2013 की शाम को तबाह हो गया था। सुबह भूस्खलन के कारण और अचानक आई बाढ़ से उत्तराखंड में 5000 लोग अधिक मौतें हुईं।

4.2) चक्रवाती तूफान फेलिन ओडिशा, 12 अक्टूबर 2013
भीषण चक्रवाती तूफ़ान “फैलिन” वो 12 अक्टूबर 2013, को ओडिशा के तट से टकराया, बहुत तेज़ रफ़्तार लेकर आया। राज्य के तटीय जिले में, हवाओं और भारी वर्षा के कारण विशेष रूप से मकान, खड़ी फसलें, बिजली और में संचार अवसंरचना व्यापक क्षति हुई।

4.3) चक्रवाती तूफान हुदहुद आंध्र प्रदेश, 12 अक्टूबर 2014
11 अक्टूबर को, हुदहुद में तेजी से तीव्रता आई और उसपर एक नजर केंद्र द्वारा रखी गई। अगले घंटों में, तूफान न्यूनतम तीव्रता के साथ अपनी चरम तीव्रता पर पहुंच गया। 950 एमबार (28.05 इंच एचजी) का दबाव और तीन मिनट की औसत हवा की गति 185 किमी/घंटा (115 मील प्रति घंटे)।

4.4) गुजरात में चक्रवाती तूफान नीलोफर, 31 अक्टूबर 2014
26-28 के अंत में अरब सागर में तीसरा सबसे शक्तिशाली चक्रवात वां अक्टूबर 2014, पहुँचे
चरम अधिकतम निरंतर हवाएं 205 किमी/घंटा (125 मील प्रति घंटे) और 215 किमी/घंटा के बीच अनुमानित हैं (130 मील प्रति घंटे)।

4.5) भीषण चक्रवाती तूफान चपला, केरल, महाराष्ट्र और गुजरात 28 अक्टूबर 2015
उत्तरी हिंद महासागर में सीज़न का तीसरा चक्रवात नामित तूफान, यह विकसित हुआ और 28 अक्टूबर 2015, को मानसून ट्रफ से भारत के पश्चिमी तट पर टकराया । रिकॉर्ड द्वारा ईंधन गर्म पानी के तापमान के कारण, प्रणाली तेजी से तीव्र हो गई और इसे भारत में चपला नाम दिया गया ।

4.6) ओडिशा में चक्रवात तितली, 11 अक्टूबर, 2018
चक्रवात तितली ने आंध्र प्रदेश में कम से कम आठ लोगों की जान ले ली और विनाश का निशान छोड़ दिया । 11 अक्टूबर, 2018 की सुबह-सुबह ओडिशा में भूस्खलन के बाद, तितली ने बहुत भयंकर चक्रवाती तूफान 130-140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से आया।

4.7) फेथाई धूल भरी आँधी से बाढ़, केरल, 19 दिसंबर, 2018
चक्रवात फेथाई ने आंध्र प्रदेश में दस्तक दी, जिससे हजारों लोग विस्थापित हो गए। यह चक्रवात गाजा द्वारा पड़ोसी राज्य तमिलनाडु, केरल, और पांडिचेरी में तबाही मचाने के ठीक एक महीने बाद आया है।
4.8) ओडिशा में चक्रवाती तूफान फानी 03 मई 2019
एक विशाल उष्णकटिबंधीय चक्रवात ने शुक्रवार को पूर्वी भारत में तटीय शहर के पास दस्तक दी। पुरी का, उस क्षेत्र को प्रभावित कर रहा है जो लाखों लोगों का घर है। ऐसा माना जाता है कि
चक्रवात फानी (“फ़ोनी”) नामक तूफ़ान, 115 मील (175 किमी) प्रति घंटे (श्रेणी 3 के तूफ़ान के बराबर) से अधिक की हवाओं के साथ तट से टकराया।

4.9) गुजरात में समुद्री तूफ़ान वायु, 12 जून 2019
भारत में दशकों बाद 170 किमी प्रति घंटा (100 मील प्रति घंटा) की रफ़्तार के साथ, प्रशांत महासागरीय वायु उत्तर पश्चिम पर हमला करने वाला सबसे शक्तिशाली तूफान वायु बन सकता है । तूफान की शक्ति से छह करोड़ लोग प्रभावित हो सकते हैं, जो उत्तर-पश्चिम भारत की ओर से बढ़ोतरी हो रही है और शुरुआत में गुजरात के समुद्र तट से टकरायेगा और गुरुवार सुबह, लगभग 300,000 लोगों को 700 शरणास्थलो में ले जाया जाएगा और क्षेत्र के स्कूल और कॉलेज बंद रहेंगे ।

4.10) चक्रवात अम्फान 2020 का पहला उत्तर भारतीय चक्रवाती तूफान है
1737 के बाद से सबसे खराब तूफान ओडिशा और पश्चिम बंगाल में 20-23 मई 2020 आया ।
समुद्री चक्रवात का मौसम और बंगाल की खाड़ी के ऊपर बनने वाला पहला ‘सुपर साइक्लोन’ विनाशकारी व अत्यधिक भीषण चक्रवात अम्फान, 190 किमी प्रति घंटे (121 मील प्रति घंटे) की रफ्तार से चलने वाली हवाएँ ने 20 मई 2020 को पश्चिम बंगाल में जोरदार बारिश की और तबाही मचाई। विनाश के इस चक्रवात से पहले पश्चिम बंगाल और ओडिशा में कम से कम 6.58 लाख लोगों को निकाला गया।

4.11) चक्रवात TAUKTUE ने कार्ला, कर्नाटक, गोवा, महाराष्ट्र और गुजरात को प्रभावित किया (13-19 मई 2021)
ताउकता भारतीय राज्यों केरल, कर्नाटक और के तटों के समानांतर शुरू हुआ और महाराष्ट्र, गुजरात में यह बहुत भीषण चक्रवाती तूफान 15-19 मई 2021 को तेजी से बढा |

4.12) चक्रवात यास – ओडिशा और पश्चिम बंगाल में 23-28 मई 2021
चक्रवात यास के भूस्खलन के दौरान समुद्र का पानी 26 मई, 2021 को बालासोर का चांदीपुर क्षेत्र में एक घर की सीमाओं से होकर प्रवेश करता है । चक्रवात ने बालासोर और मयूरभंज जिलों में वृक्ष आवरण को बड़ी क्षति पहुंचाने की सूचना दी गई । नीलगिरी इलाके में हजारों पेड़ों की गिरे होने की सूचना मिली हैं ।

5. हरित भूमि की वैश्विक स्थिति (द्वीप- आर्कटिक और अंटार्कटिका सागर)
यह 51.7 मिलियन वर्ग किलोमीटर पृथ्वी की सतह का केवल 10% है और अब:

5.1). उत्तरी ध्रुव की बर्फ (न्यूनतम)
• 2010 में 4.100 मिलियन वर्ग किमी 5.17 मिलियन के मुकाबले 78% बर्फ बची थी |
• 2019 में 1.560 मिलियन वर्ग किमी 30% बर्फ बची है
• 2021 में 1.384 मिलियन वर्ग किमी 17% बर्फ बची है

5.2). दक्षिणी ध्रुव की बर्फ (न्यूनतम)
गर्मियों में अधिकतम 7.2 मिलियन वर्ग किमी और सबसे कम 1.1 मिलियन वर्ग किमी
5.3). चादरों की औसत मोटाई 4.8 किमी है जो समुद्र के जल स्तर को 63 मीटर (200 फीट) तक बढ़ा सकती है।

6.0 कौन लाया पहाड़ पर बर्बादी, बेरहम विकास या बढ़ती आबादी?
हिमाचल प्रदेश से उत्तराखंड तक में ‘विकास का जाल बिछ गया’ है। इस जाल में फंसा है तो इन पहाड़ी राज्यों का भविष्य, जो अब बारिश की एक बूंद भी बर्दाश्त कर पाने के काबिल नहीं है। पहाड़ों में ब्लास्ट, भारी मशीनों का इस्तेमाल और विकास के लिए बनाई जा रही सुरंगे-सड़कें इन राज्यों के लिए मुसीबत बन रही हैं। हिमाचल प्रदेश में अगस्त का महीना भयानक आपदा लेकर आया है। पहाड़ों में कोहराम मचा है। घर, सड़क, मंदिर, स्कूल और पहाड़ कांच के टुकड़ों की तरह टूटकर बिखर रहे हैं। हिमाचल और उत्तराखंड के पहाड़ का पोर-पोर टूट रहा है। बारिश की बूंदें गिरते ही लाखों सालों से जमे पहाड़ धराशाई हो रहे हैं। सवाल ये है कि अचानक ऐसा क्यों हो रहा है? सवाल ये भी है कि क्या ये विनाश हिमाचल और उत्तराखंड के कुछ शहरों तक ही सीमित है या देश के कई विख्यात शहर इसकी चपेट में हैं? सवाल ये भी है कि कौन लाया पहाड़ पर बर्बादी बेरहम विकास या बढ़ती आबादी?

6.1 सड़क की जाल बन रही जान का जंजाल
हिमाचल प्रदेश की स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी के आंकड़ों के अनुसार साल 2020 में हिमाचल प्रदेश में लैंडस्लाइड के 16 बड़े मामले दर्ज हुए थे लेकिन 2021 में 100 से ज्यादा बड़े स्तर की लैंडस्लाइड की घटनाएं हुईं । 2022 में पहाड़ दरकने के कम से कम 117 ऐसे मामले सामने आए जिनमें जानमाल का नुकसान हुआ । पहाड़ों को सिर्फ सड़कों के लिए ही नहीं तोड़ा जा रहा । पहाड़ों की चूल-चूल हिलाने का काम वो टनल कर रही हैं, जो तेजी से पहाड़ी राज्यों में बनाई जा रही हैं ।
6.2 बारिश, लैंडस्लाइड ने पहाड़ी राज्य में मचाई तबाही
हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में लैंडस्लाइड का डरावना मंजर दिखाई दिया । यहां के समरहिल इलाके में शिमला नगर निगम का स्लॉटर हाउस जमींदोज हो गया । तस्वीरें विचलित कर देने वाली हैं । पहले एक बड़ा पेड़ गिरा, फिर ताश के पत्तों की तरह स्लॉटर हाउस ढलान की तरफ सरकता चला गया और फिर शिमला के स्लॉटर हाउस के साथ लगे पांच घर भी जमींदोज हो गए । चीख पुकार मच गई. जगह-जगह लैंडस्लाइड और बादल फटने से राजधानी शिमला को जोड़ने वाली कई सड़कें टूट गईं । रेल की पटरियां हवा में झूलने लगीं. कई इमारतें ढह गईं ।
पिछले 3 दिनों में टूटे कहर के बाद अकेले मंडी शहर में 20 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है । पहाड़ टूटने के बाद कई लोग लापता हो गए हैं । जगह-जगह लैंडस्लाइड के बाद कुल्लू-मनाली को जोड़ने वाला हाइवे बंद होने से सैकड़ों पर्यटक फंस गए हैं । हिमाचल प्रदेश के शहरों पर कुदरत की मार है या ये इंसान का ही प्रहार है? आज ये सोचने की जरूरत है कि हमने इन पहाड़ों के साथ ऐसा क्या किया है? जो बारिश की बूंदें पड़ते ही बुरी तरह टूटकर बिखर रहे हैं । हिमाचल प्रदेश के सिर्फ शिमला ही नहीं, कई शहरों के वजूद पर संकट खड़ा हो गया है।
7. आपदा प्रबंधन
यह तथ्य हमें ज्ञात है कि आपदा एक अचानक, विनाशकारी घटना है जो गंभीर रूप से बाधित करती है, किसी समुदाय या समाज की कार्यप्रणाली और मानवीय, भौतिक और आर्थिक या का कारण बनती है | पर्यावरणीय हानियाँ जो समुदाय या समाज की अपनी क्षमता से निपटने की क्षमता से अधिक हो संसाधन। हालाँकि आपदाएँ अक्सर प्रकृति के कारण होती हैं, फिर भी आपदाएँ मानवीय उत्पत्ति की हो सकती हैं। वहाँ तीन आपदा के प्रकार हैं –
• प्राकृतिक – तूफान, बवंडर, भूकंप, बाढ़, ज्वालामुखी, आग आदि।
• तकनीकी – रासायनिक उत्सर्जन, बिजली कटौती, प्राकृतिक गैस विस्फोट, आदि।
• मानव निर्मित – आतंकवादी हमले, जातीय दंगे, सामूहिक गोलीबारी, आदि।

आपदा प्रबंधन का उद्देश्य आपदाओं की घटना को कम करना और इसके प्रभाव को कम करना है, जिन्हें रोका नहीं जा सकता । इन खतरों से होने वाले संभावित नुकसान को कम करने या उससे बचने के लिए है, आश्वासन दिया जाता है। आपदा पीड़ितों को त्वरित एवं उचित सहायता प्रदान करना तथा त्वरित एवं प्रभावी ढंग से लक्ष्य हासिल करना सबसे आवश्यक है। इसमें सरकारी हस्तक्षेप के साथ – साथ उचित योजना के लिए फंडिंग को उपलब्ध कराने की आवश्यकता है। यहाँ यह भी उल्लेखनीय है कि यह आवश्यक नहीं है कि ये आपदाएँ हमेशा अप्रत्याशित हों।

8). निष्कर्ष-
प्राथमिक कार्य प्राकृतिक आपदा के दौरान समाज को सुरक्षित रखना है, तो उपयुक्त तैयारी सुरक्षा युक्तियाँ से ही कर सकते हैं । अतएव भयंकर तूफानो को रोकने और आपात्कालीन स्थिति में बदलाव लाने हेतु निम्नलिखित बिन्दुओ से अवगत रहें:
किसी भी आपातकालीन स्थिति से सूचित रहें।
• राहत के लिए एक योजना बनाएं।
• आपातकालीन उपयोगिताएँ / किट हाथ में रखें।
• अनावश्यक जोखिमों से बचें जैसे: मछुआरे को बाहर निकालना।
• समुद्री / सामाजिक दूरियाँ बनाए रखें ।
• लोगों या जानवरों को सबसे सुरक्षित क्षेत्र में रखना / अपने घर में बंद कर देना।

वर्ष 2045-50 तक कोयले की अनुपलब्धता के कारण ताप विद्युत उत्पादन कम होने वाला है। और हमें अधिक अधिक से नवीकरणीय ऊर्जा से जोड़ना होगा । संभावना है कि वर्ष 2045-50 तक पृथ्वी पर ग्लेशियर अथवा वर्फ़ गायब हो जायेगी। पहाड़ी क्षेत्रो में घाटियाँ ध्वस्त हो जायेंगी, वहाँ के निवासियों को पहाड़ी क्षेत्रों को छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर विस्थापित होना होगा ।उत्तर-प्रदेश व बिहार मानसूनी वारिश न होने से रेगिस्तान बन सकता है । ऐसी स्थिति में सबसे अधिक मानवता प्रभावित होगी और 45% से 50% तक जीवों के समाप्त होने कि संभावना से नकारा नहीं जा सकता है। ऐसी ही स्थिति सम्पूर्ण विश्व में रहेगी ।

Check Also

Australian Veterans cricket team will be at Semmancheri

CUTS-South Asia:Bolstering India -Australia Defence Relations.On 21st February,2024 at 8.30am.YouTube Streaming or Scan the QR ...