Home / Slider / आज विजया दशमी, होगा रावण दहन

आज विजया दशमी, होगा रावण दहन

मंगलवार को आश्विन शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि पर दशहरा अर्थात विजयदशमी का त्योहार मनाया जा रहा है। दशमी तिथि 7 अक्टूबर की दोपहर 12 बजकर 39 मिनट से शुरू हो जाएगी जो 8 अक्टूबर की दोपहर 2 बजकर 50 मिनट तक रहेगी। इसके साथ ही पूरा दिन पार करके रात के 8.12 बजे तक सारे काम बनाने वाला रवि योग रहेगा । इसी दिन बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक ‘विजयदशमी’ का त्योहार मनाया जायेगा। पुराणों के अनुसार रावण पर भगवान श्री राम की जीत के उपलक्ष्य में विजयदशमी का ये त्योहार मनाया जाता है।  बार विजयदशमी या दशहरा 8 अक्टूबर, मंगलवार को है।

सरफराज

मंगलवार को विजयादशमी का त्यौहार धूम-धाम के साथ मनाया जा रहा है। सोमवार को महा नवमी थी यानी कि नवरात्रि का अंतिम दिन। इस दिन नवरात्रि के व्रत का पारायण हो जाता है।

दशहरा का त्यौहार भगवान श्री राम की कहानी तो कहता ही है जिन्होंने लंका में 9 दिनों तक लगातार चले युद्ध के पश्चात अंहकारी रावण को मार गिराया और माता सीता को उसकी कैद से मुक्त करवाया। वहीं इस दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का संहार भी किया था इसलिए भी इसे विजयदशमी के रुप में मनाया जाता है और मां दूर्गा की पूजा भी की जाती है।

माना जाता है कि भगवान श्री राम ने भी मां दूर्गा की पूजा कर शक्ति का आह्वान किया था, भगवान श्री राम की परीक्षा लेते हुए पूजा के लिए रखे गये कमल के फूलों में से एक फूल को गायब कर दिया। चूंकि श्री राम को राजीवनयन यानि कमल से नेत्रों वाला कहा जाता था इसलिये उन्होंनें अपना एक नेत्र मां को अर्पण करने का निर्णय लिया ज्यों ही वे अपना नेत्र निकालने लगे देवी प्रसन्न होकर उनके समक्ष प्रकट हुई और विजयी होने का वरदान दिया। माना जाता है।

इसके पश्चात दशमी के दिन प्रभु श्री राम ने रावण का वध किया। भगवान राम की रावण पर और माता दुर्गा की महिषासुर पर जीत के इस त्यौहार को बुराई पर अच्छाई और अधर्म पर धर्म की विजय के रुप में देशभर में मनाया जाता है।

दुर्गाष्टमी का हिन्दू धर्म में बड़ा ही महत्त्व है। प्रत्येक
माह में शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि पर दुर्गाष्टमी व्रत किया जाता है, इसे ‘मासिक दुर्गाष्टमी’ भी कहते हैं। इस दौरान श्रद्धालु दुर्गा माता की पूजा करते हैं और उनके लिए पूरे दिन का व्रत करते हैं। मुख्य दुर्गाष्टमी, जिसे ‘महाष्टमी’ कहा जाता है।

आश्विन माह में नौ दिन के शारदीय नवरात्र उत्सव के दौरान महा अष्टमी पड़ती है। नवरात्रि की अष्टमी को ‘दुर्गा अष्टमी’ और ‘मासिक दुर्गाष्टमी’ को ‘मास दुर्गाष्टमी’ के नाम से भी जाना जाता है।

भगवती दुर्गा को उबाले हुए चने, हलवा-पूरी, खीर, पुए आदि का भोग लगाया जाता है। इस दिन देवी दुर्गा की मूर्ति का मन्त्रों से विधिपूर्वक पूजन किया जाता है। बहुत-से व्यक्ति इस महाशक्ति को प्रसन्न करने के लिए हवन आदि भी करते हैं। शक्तिपीठों में इस दिन बहुत उत्सव मनाया जाता है।


चैत्र शुक्ल अष्टमी का अत्यन्त विशिष्ट महत्त्व है। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को नवरात्र पूजा का जो आयोजन प्रारम्भ होता है, वह आज ही के दिन या दूसरे दिन नवमी को पूर्णता प्राप्त करता है।

आज के दिन ही आदिशक्ति भवानी का प्रादुर्भाव हुआ था। भगवती भवानी अजेय शक्तिशालिनी महानतम शक्ति हैं और यही कारण है कि इस अष्टमी को महाष्टमी कहा जाता है। महाष्टमी को भगवती के भक्त उनके दुर्गा , काली , भवानी, जगदम्बा, दवदुर्गा आदि रूपों की पूजा-आराधना करते हैं।

प्रतिमा को शुद्ध जल से स्नान कराकर वस्त्राभूषणों द्वारा पूर्ण श्रृंगार किया जाता है और फिर विधिपूर्वक आराधना की जाती है।

हवन की अग्नि जलाकर धूप, कपूर, घी, गुग्गुल और हवन सामग्री की आहुतियां दी जाती हैं। सिन्दूर में एक जायफल को लपेटकर आहुति देने का भी विधान है। धूप, दीप, नैवेद्य से देवी की पूजा करने के बाद मातेश्वरी की जय बोलते हुए 101 परिक्रमाएं दी जाती हैं।

कुछ क्षेत्रों में गाय के गोबर से पार्वती जी की प्रतिमा बनाकर पूजने का विधान भी है। वहाँ इस दिन कुमारियां तथा सुहागिने पार्वती जी को गोबर निर्मित प्रतिमा का पूजन करती हैं।

शारदीय नवरात्रि के आज आठवे दिन माँ महागौरी की पूजा होती है। कई लोग नवरात्रि के व्रत का पारण इसी दिन कन्याओं को भोजन कराकर करते हैं। अष्टमी को महाअष्टमी भी कहा जाता है। धार्मिक मान्यताओं अनुसार महागौरी की उपासना से इंसान को हर पाप से मुक्ति मिल जाती है और उसके जीवन में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहती है। मां की शास्त्रीय पद्धति से पूजा करने वाले सभी रोगों से मुक्त हो जाते हैं और धन-वैभव संपन्न होते हैं।
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

नवरात्रों के पश्चात् इसी दिन दुर्गा का विसर्जन किया जाता है। इस पर्व पर नवमी को प्रात: काल देवी का पूजन किया जाता हैं। अनेक पकवानों से दुर्गाजी को भोग लगाया जाता है। छोटे बालक-बालिकाओं की पूजा करके उन्हें पूड़ी, हलवा, चने और भेंट दी जाती है।

Check Also

Australian Veterans cricket team will be at Semmancheri

CUTS-South Asia:Bolstering India -Australia Defence Relations.On 21st February,2024 at 8.30am.YouTube Streaming or Scan the QR ...