Home / Slider / उत्तर प्रदेश का बजट 2023: आज का बजट 698 लारव करोड़ से अधिक का : वित्तमंत्री सुरेश खन्ना ने पेश किया बजट

उत्तर प्रदेश का बजट 2023: आज का बजट 698 लारव करोड़ से अधिक का : वित्तमंत्री सुरेश खन्ना ने पेश किया बजट

2022 2023 क बजट उत्तर प्रदेश के सर्वागीण विकास के लिये 

आज का बजट 698 लारव करोड़ से अधिक का बजट है।

प्रदेश में कर चोरी रोकनी पड़ी।वित्तीय अनुशासन को बनाए रखना पड़ा।

जनता पर अतिरिक्त टैक्स लगाये बिना मंहगाई में कन्ट्रोल किया।

आज के बजट में वित्तीय अनुशासन बनाये रखा गया हैं।

45 से 46 फीसदी से ज्यादा राजस्व प्राप्त हो रहा है।

16 और 17 में बेरोजगारी दर 16 फीसदी थी। आज 4 फीसदी दर रह गई है।

 हमारे पास 5 एक्स्प्रेस वे है,आज के बजट में झांसी से चित्रकूट तक जोड़ने के लिये बजट की व्यवस्था की है।

बुन्देलखण्ड में ग्रीन कॉरीडार बनाने की ब्यवस्था इस बजट में की है।

एयरकनेक्टीविटीमें 2 एयर पोर्ट थे,आज 9 एयरपोर्ट काम कर रहे हैं,आने वाले 2 साल में 21 एयरपोर्ट होगे।

आगामी कुंभ को देखते हुये बसो के लिये एक हजार करोड की व्यवस्था की गई है।

प्रमुख धर्मस्थलो में सड़को से जाने के लिये एक हजार करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है

एक जिला एक उत्पाद के लिये दो सौ करोड़ की धनराशि की ब्यवस्था इस बजट में की गई है।

युवाओ को रोजगार के लिये प्रशिक्षण के लिये इस बजट में प्रावघान किया है।

श्री अन्न मोटा अनाज के लिये 55 करोड़ रूपये का प्रावघान किया गया है।

प्रदेश के अन्नदाता के लिये बजट में विशेष व्यवस्था की हैं, बंद चीनी मिलें चलाई जा रही है।

गौवंश को देखभाल के लिये भी बजट में प्रावघान है, 750 करोड़ की व्यवस्था की गई है।

*विधानसभा वित्तमंत्री सुरेश खन्ना के बजट भाषण के प्रमुख अंश*
*—————-*

● वर्ष 2022-2023 में जल जीवन मिशन के अन्तर्गत राज्य सरकार द्वारा 19,500 करोड़ रूपये का बजट प्राविधान किया गया।

● वर्ष 2023 -2024 में जल जीवन मिशन के अन्तर्गत 25,350 करोड़ रूपये की बजट व्यवस्था प्रस्तावित है। वर्ष 2023-2024 तक इन योजनाओं के अन्तर्गत प्रदेश के समस्त 2.26 करोड़ घरों में क्रियाशील गृह नल संयोजन प्रदान कर शुद्ध एवं सत्त पेयजल उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है।

● राज्य ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम के अन्तर्गत 188 योजनाओं. जिनकी लागत 455.15 करोड़ रुपये है, को पूर्ण किये जाने का लक्ष्य निर्धारित है।

● हमारी सरकार के कार्यकाल में नागरिक उड्डयन के क्षेत्र में अभूतपूर्व कार्य हुआ है। वर्तमान में प्रदेश में 09 एयरपोर्ट क्रियाशील हैं तथा 80 गन्तव्य स्थानों के लिए एयर सर्विस उपलब्ध है।

● प्रदेश में 03 अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट क्रियाशील हैं। जेवर तथा अयोध्या में अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट निर्माणाधीन हैं। शीघ्र ही प्रदेश में 05 अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट क्रियाशील हो जायेंगे।

● जेवर एयरपोर्ट में रनवेज की संख्या 02 से बढ़ाकर 05 किये जाने का निर्णय राज्य सरकार द्वारा लिया गया है। हमारी सरकार के अब तक के कार्यकाल में 04 एयरपोर्ट्स के निर्माण का कार्य पूर्ण किया जा चुका है तथा 06 एयरपोर्ट्स (अलीगढ़, आजमगढ़, मुरादाबाद, श्रावरती, चित्रकूट तथा सोनभद्र) का निर्माण कार्य लगभग पूर्ण हो रहा है।

● आगे आने वाले वर्षों में प्रदेश में 05 अन्तर्राष्ट्रीय तथा 16 घरेलू एयरपोर्ट, इस प्रकार कुल 21 एयरपोर्ट क्रियाशील हो जायेंगे।

● हमारा यह मानना है कि प्रदेश की जनता को हवाई यात्रा सुलभ हो। प्रदेश में जिस प्रकार हवाई यात्रा की सुविधा का विस्तार हो रहा है, वह कदाचित इन पंक्तियों में सांकेतिक रूप में व्यक्त किया जा सकता है।

*हमारे पंखों पे कौन विराम लगा सकता है।*
*जब हमें नियति से उड़ने का वरदान मिला।।*

Check Also

Australian Veterans cricket team will be at Semmancheri

CUTS-South Asia:Bolstering India -Australia Defence Relations.On 21st February,2024 at 8.30am.YouTube Streaming or Scan the QR ...