Home / Slider / “माधो आए” का मंचन: निर्देशन जितेंद्र शंकर अवस्थी ने किया

“माधो आए” का मंचन: निर्देशन जितेंद्र शंकर अवस्थी ने किया

 “माधो आए” नाटक का मंचन 

      उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी, लखनऊ द्वारा माध्यम संस्थान के सहयोग से आयोजित तीन दिवसीय राज्य नाट्य समारोह में कानपुर की संस्था कलापुंज की ओर से नाटक माधो आए का मंचन किया गया।

    पु. ल. देशपांडे द्वारा लिखित तथा जयराम करकरे द्वारा अनूदित नाटक का निर्देशन जितेंद्र शंकर अवस्थी ने किया। नाटक मानव मन की तृष्णा और कुटिल भावों का बखूबी चित्रण करता है।

     यह सब विधि है कि हम जब अपने आराध्य के दर्शन या पूजन हेतु जाते हैं तब हमारे मानव मन के अंदर कहीं ना कहीं यह लालच रहती है कि हमारे आराध्य हमारी मनोकामनाओं को पूरा करें। हम अपनी श्रद्धा का प्रदर्शन तो करते हैं मगर हमारे मन में भाव ये रहता है कि आराध्य हमें आर्थिक संपन्नता दिन हमारे कार्य व्यापार में वृद्धि दे और हमारे जीवन को संपन्नता प्रदान करें। ऐसा विचार कर हम अपनी श्रद्धा का दिखावा करते हैं। हमने कभी विचार किया कि यदि हमारे आराध्य किसी दिन सचमुच हमारे बीच आज जाए तो हम किस तरह का व्यवहार उनके साथ करेंगे। यदि हम वह हमसे कुछ मांगे तो हम किस तरह उनसे झूठ बोलकर उन्हें बरगलाने का प्रयास करते हैं। जबकि हमारे बीच में यह सच्चे सेवक हमें सही मार्ग दिखाने का प्रयास करते हैं तब भी हम उन सच्चे सेवकों को भी दुत्कारने का कार्य करते हैं और अपने आराध्य से उनके ईश्वर होने का प्रमाण तक मांगते हैं। हम भूल जाते हैं कि हमारे आराध्य और उनकी ईश्वरी शक्तियां ही सर्वोपरि हैं।

    नाटक में जितेन शंकर अवस्थी, रामकुमार, सौरभ सिंह, विवेक मल्होत्रा, ऋषभ कुमार, तृप्ति दीक्षित, अनिल गोद, योगेंद्र श्रीवास्तव, सुशील चक, राम त्रिपाठी ने अभिनय किया। संगीत-शिवेंद्र कुमार, रूप सजा – धर्मेंद्र वर्मा, रंग दीपन – के बी सक्सेना ने किया। नाट्य समारोह का संयोजन शैलजा कांत ने किया, कार्यक्रम सहायक ध्रुवेंद्र विक्रम सिंह रहे तथा संचालन डॉ अशोक कुमार शुक्ल ने किया।

Check Also

“Advocate Mr Dinesh Kumar Misra and his family shall not be arrested”: HC

Prayagraj  “Till the next date of listing, petitioners advocate Mr Dinesh Kumar Misra and his ...